top of page
Search
  • ravidabraluk

आपका “समय” और “जमीर” आपकी सबसे बड़ी दौलत है : लेखक, गीतकार, गायक रवि डबराल

कई लोग मुझसे पूछते हैं की आपको अपनी पढ़ाई लिखाई (जैसे पीएचडी) और हॉबी । इंटरेस्ट । शौक (लेखक, सॉंग राइटर तथा सिंगर @ मण्डान मेलोडीज़ यूट्यूब चैनल) के लिए अपने जॉब के साथ साथ समय (टाइम) कैसे और कहाँ से मिलता है?


तो मेरा जवाब होता है: मिडल और लोअर क्लास लोगों के पास समय । टाइम ही तो सबसे बड़ी दौलत है।  ना हमारे पास बहुत धन होता है, ना बहुत अच्छे कांटैक्ट्स । लिंक्स होते हैं, ना ही किसी पोलिटिकल पॉवर वाले लोगों से जान पहचान होती है जिस का इस्तेमाल करके कई लोग अपना ज़मीर (आत्मा । चेतना ) गिरवी रखकर । बेचकर अमीर बन जाते हैं।


हमारी सबसे बड़ी दौलत है हमारा “समय । टाइम”, जो “भगवान” ने चाहे अमीर हो या गरीब हो सबको बराबर दे रखा है बस इस क़ीमती समय को कैसे आप अपनी पड़ाई लिखाई (ऐकडेमिक । स्किल्स । टेक्निकल । प्रोफेशनल ज्ञान को अपग्रेड करके) और अपने हॉबीज़ | इंटरेस्ट । शौक़ (इस दुनिया में हर किसी को भगवान ने "समय" के साथ साथ कोई ना कोई "टैलेंट" भी दे रखा है) को आगे बढ़ाने और निखारने में जुनून के साथ । इच्छाशक्ति के साथ, ईमानदारी, लगन और अनुशासन में रहकर सही और सटीक तरीक़े से (टाइम मैनेजमेंट द्वारा) इस्तेमाल करते हो अपनी लाइफ में आगे बढ़ने के लिए या फिर कैसे ओटीपी प्लेटफॉर्म्स की सीरीज या फ़ालतू की प्रोपेगंडा वाले न्यूज़ चैनल या गेमिंग या इंटरनेट । सोशल मीडिया सर्फिंग, इत्यादि में अपना क़ीमती समय और ध्यान वेस्ट । व्यर्थ करते हो।


अगर आप अपने जीवन में “समय । टाइम” का सही और सटीक इस्तेमाल करना सीख गए तो यक़ीन मानिए इस दुनिया में ये आपकी सबसे बड़ी दौलत है और आपसे बड़ा कोई अमीर नहीं है।

शुभकामनाओं के साथ।

लेखक रवि डबराल

1 view0 comments

Comments


bottom of page